उपयोगी लेख

ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना

ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना

ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना

You are currently viewing इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने? | How to Select Stock for Intraday Trading in Hindi

इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने? | How to Select Stock for Intraday Trading in Hindi

  • Post author: ShareMarketIndia
  • Post published: March 11, 2022
  • Post category: शेयर मार्केट
  • Post comments: 0 Comments

इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने? | How to Select Stock for Intraday Trading in Hindi

शेयर मार्केट में जब एक दिन के अंदर ही शेयर को खरीदकर बेचा जाता है तो उसे इंट्राडे ट्रेडिंग कहते है।शेयर मार्केट सुबह 9:15 को खुलता है और 3:30 को बंद होता है।इस समय के बीच में अगर आप शेयर खरीदकर उसे बेच देते है तो उसे इंट्राडे ट्रेडिंग कहा जाता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग में सफलता पाने के लिए,आपको यह जानना महत्वपूर्ण है कि इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए शेयर कैसे चुने?(How to Select Stock for Intraday Trading in Hindi)। इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए अच्छे शेयर चुनकर आप कम समय में अच्छा पैसा कमा सकते है।

लेकिन बहुत से लोग मुनाफा नहीं कमा पाते उल्टा नुकसान कर बैठते है। क्योंकि वे इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए अच्छे और उपयुक्त शेयर नहीं चुन पाते।

आज में आपको कुछ ऐसी टिप्स बताने वाला हूं जिससे आप इंट्राडे के लिए अच्छे शेयर चून सकते है।

Table of Contents

इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने | How to Select Stock for Intraday Trading in Hindi

इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने – तरलता

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए आपको ऐसे शेयर चुनने चाहिए जिसमें ज्यादा तरलता हो। तरलता को इंग्लिश में लिक्वडिटी कहा जाता है।

तरलता का मतलब होता है कि किसी भी शेयर को आसानी से कभी भी खरीदा और बेचा जा सकता है। यानी कि आपके पास जो भी शेयर है, उसे सही वक्त आने पर बेच कर आसानी से कैश में बदला जा सके। कोई भी शेयर जितना तरल होगा, उसे उतनी आसानी से खरीदा और बेचा जा सकता है। अगर कोई शेयर जितना कम तरल होगा उसे बेचना और खरीदना उतना ही मुश्किल ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना हो सकता है।

अच्छी तरलता वाले शेयर को इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए चुनने से जब भी आपको एक अच्छा मुनाफा हो तो उसे बेचने में आसानी होती है।

अगर शेयर को खरीदने वाले लोग कम होंगे तो हो सकता है कि जब आप शेयर को बेचना चाहते हो उस वक्त आपको खरीदार ही ना मिले। इसलिए आपको इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ज्यादा तरल स्टॉक में ही ट्रेडिंग करनी चाहिए।

इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने – मीडियम वोलैटिलिटी

आपको ऐसे शेयर चुनने है जिसमें मीडियम वोलैटिलिटी यानी उतार चढ़ाव होते हो।

इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसा कमाने के लिए शेयर के प्राइस मूवमेंट की आवश्यकता होती है। इसलिए ऐसे शेयरों का चयन जरूरी होता है जिसमें वोलैटिलिटी हो।अगर आपने ऐसे शेयर चुन लिए जिसमें ज्यादा प्राइस मूवमेंट ना होती हो तो आप अच्छा पैसा नहीं बना पाएंगे।इसलिए आपको ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना जिसमें मीडियम वोलैटिलिटी हो ऐसे शेयर चुनने चाहिए।

हाई वोलैटिलिटी वाले शेयर में रिस्क ज्यादा होता है।अगर आप ज्यादा रिस्क ले सकते है तो हाई वोलैटिलिटी वाले शेयर भी चुन सकते है। लेकिन मेरी राय ये होगी की आप ऐसे शेयरों से दूर रहे।

विशेषज्ञ उन शेयरों को चुनने का सुझाव देते हैं जिनमें औसतन प्रति दिन कम से कम 3 प्रतिशत की प्राइस मूवमेंट होती है।

इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने – मार्केट ट्रेंड्स

कुछ शेयर ऐसे होते है जो मार्केट के रुझान यानी ट्रेंड्स के साथ चलते हैं। यानी जब ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना मार्केट ऊपर जाता है तो वे ऊपर जाते हैं और जब मार्केट निचे होता है तो वे नीचे जाते हैं।

मार्केट ट्रेंड्स बहुत से बार शेयरों के प्राइस मूवमेंट को निर्धारित करता है। ऐसा शेयर चुनें जिसमें मार्केट में तेजी आने पर बढ़ने की क्षमता हो।एक इंट्राडे ट्रेडर होने के नाते, आपको उन शेयरों को चुनने चाहिए जो मार्केट के रुझान के साथ चलते हैं।

ऐसे शेयरों के साथ पैसा बनाने का मौका ज्यादा होता है। क्योंकि वे शेयर कभी कभी पूरे मार्केट की तुलना से अधिक बढ़ते हैं।

इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने – टेक्निकल एनालिसिस

टेक्निकल एनालिसिस में किसी भी शेयर की प्राइस मूवमेंट को देखकर यह अंदाज़ा लगाया जाता है की शेयर ऊपर जायेगा या नीचे।

टेक्निकल एनालिसिस को शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।टेक्निकल एनालिसिस की मदद से आप शेयर प्राइस मूवमेंट,ट्रेंड्स,ट्रेडिंग वॉल्यूम इन सबका पता कर सकते हैं।

आप टेक्निकल एनालिसिस यूट्यूब चैनल, वेबसाइट्स या कोई कोर्सेस करके सीख सकते है।

इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने – शेयर मार्केट न्यूज़ देखे

अगर किसी कंपनी से जुड़ी कुछ अच्छी खबर आती है तो उसके शेयर में बढ़ोतरी हो सकती है।अगर खबर बुरी हो तो शेयर मी गिरावट भी आ सकती है।

अगर किसी शेयर से संबंधित कुछ अच्छा समाचार आने वाला होता है, तो आप समाचार सामने आने से पहले शेयर पैसा लगा सकते हैं। उदाहरण के लिए,अगर कोई कंपनी डिविडेंड की घोषणा करती है या क्वार्टरली रिजल्ट्स या अन्य कोई घोषणा करती है तो हो सकता है कि उसके शेयर मी बढ़ोतरी देखने मिले।

कुछ कम्पनियों के शेयर सरकारी घोषणा,बजट घोषणा,आरबीआई घोषणा आदि से भी प्रभावित होते हैं।इसलिए आपको शेयर मार्केट से जुड़ी न्यूज़ भी देखनी चाहिए।

इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने – FAQ

इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने?

तरलता,मीडियम वोलैटिलिटी,मार्केट ट्रेंड्स,टेक्निकल एनालिसिस,शेयर मार्केट न्यूज़ देखे

निष्कर्ष

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सही और अच्छा शेयर चुनकर आप अच्छे पैसे बना सकते हो।इंट्राडे ट्रेडिंग करना जोखिम भरा हो सकता है लेकिन सही तरीके और मानसिकता के साथ, आप बहुत अधिक लाभ कमा सकते हैं।

अगर आपको इंट्राडे के लिए शेयर कैसे चुने?(How to Select Stock for Intraday Trading in Hindi) इसके बारे में यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरूर शेयर कीजिए।

ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना

धन महोत्सव

टॉप 7 बेस्ट फ्री शेयर मार्केट स्टॉक चार्टिंग सॉफ्टवेयर व स्क्रीनर

  • Post author: धन महोत्सव
  • Post category: स्टॉक मार्केट
  • Reading time: 3 mins read

स्टॉक मार्केट में निवेश करने और अपने पोर्टफोलियो का विश्लेषण करने के लिए बेस्ट स्टॉक चार्टिंग सॉफ्टवेयर काफी हेल्पफुल होते हैं।

स्टॉक चार्ट एक मूल्य चार्ट होता है जो एक समय सीमा में प्लॉट किए गए स्टॉक की कीमत व फ्लकचुएशन को दर्शाता है।

उपयोगकर्ता की जरूरतों के आधार पर समय सीमा प्रति घंटा, दैनिक, साप्ताहिक, मासिक, त्रैमासिक या वार्षिक हो सकती है।

टॉप 7 बेस्ट फ्री शेयर मार्केट स्टॉक चार्टिंग सॉफ्टवेयर व स्क्रीनर

नए और कम अनुभव वाले निवेशकों के लिए शेयर मार्किट में स्टॉक चार्टिंग सॉफ्टवेयर हमेशा तकनीकी विश्लेषण को आसान बनाते है। क्या आपको पता है, शेयर बाजार में निवेशकों के विभिन्न प्रकार होते हैं।

इनके माध्यम से, कोई भी शेयर बाजार के रुझानों को समझ सकता है, विभिन्न संकेतों के माध्यम से निवेश का सर्वोत्तम निर्णय ले सकता है और उन्नत विश्लेषण के आधार पर अपने पोर्टफोलियो में सर्वश्रेष्ठ स्टॉक शामिल कर सकता है।

स्टॉक रोवर (Stock Rover)

स्टॉक रोवर सबसे अच्छा स्टॉक स्क्रीनर है जो बाजार में मुफ्त में उपलब्ध है जो आपको 10,000 स्टॉक और 43,000 म्यूचुअल फंड और ईटीएफ के लिए स्कैनिंग प्रदान करता है।

यह बुनियादी तकनीकी संकेतकों के साथ शेयर मार्केट की बुनियादी बातों पर अधिक ध्यान केंद्रित करता है जिससे आप बाजार का विश्लेषण कर सकते हैं और अच्छे स्टॉक्स को पिक कर सकते हैं।

ट्रेडिंग व्यू (Trading View)

ट्रेडिंग व्यू शेयर मार्केट स्टॉक चार्ट में एक सबसे अच्छा सॉफ्टवेर है। आप लगभग सभी शेयर बाजार को कवर करते हुए विशाल बाजार डेटा तक पहुंच सकते हैं।

इसमें स्टॉक, ईटीएफ, फ्यूचर्स, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड और क्रिप्टो आदि शामिल हैं और आप इनकी बेस्ट सेवाओं का आनंद ले सकते हैं।

स्टॉकचार्ट्स (Stockcharts)

अधिकांश उन्नत व्यापारी और निवेशक सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग विश्लेषण और सुविधाओं के लिए स्टॉक चार्ट पसंद करते हैं जो आपको विस्तृत और सटीक निवेश संकेतक प्रदान करते हैं।

स्टॉक चार्ट्स प्वाइंट एक बेहतरीन पेशकश है जो निवेशको के लिए बिल्कुल मुफ्त है। एक बेहतरीन स्टॉक चार्ट प्रेजेंटेशन के साथ अट्रैक्टिव लुक प्रदान करता है।

रॉबिन हुड (RobinHood)

रॉबिन हुड स्टॉक विश्लेषण करने और रीयल टाइम डेटा देखने के लिए एक उत्कृष्ट चार्टिंग प्लेटफॉर्म प्रदान करता है।

आप बिना किसी साइन-अप के स्टॉक चार्ट्स और रीयल-टाइम कोट्स और चार्ट्स को निःशुल्क एक्सेस कर सकते हैं और इनकी बेहतरीन सर्विस का फ्री में फायदा उठा सकते हैं।

रॉयटर्स (Reuters)

यदि आप चार्टिंग के साथ-साथ समाचारों को देखना पसंद करते हैं, तो रॉयटर्स सबसे अच्छे विकल्पों में से एक हो सकता है।

रॉयटर्स सभी बुनियादी स्टॉक चार्ट और संकेतकों के साथ लेटेस्ट स्टॉक ट्रेडिंग अपडेट व रिपोर्ट प्रदान करता है जो इसके यूजर्स के लिए सही समय पर सही इन्वेस्टमेंट डिसीजन लेने में सहायक होते है।

सीएनएन मनी (CNN Money)

यह सबसे अच्छा मुफ्त और सशुल्क स्टॉक चार्टिंग प्लेटफॉर्म है जो आपको सर्वोत्तम निवेश निर्णय लेने और सर्वोत्तम सुविधाओं के आधार पर विभिन्न शेयरों का विश्लेषण करने की अनुमति देता है।

यह अपने उपयोगकर्ताओं को रीयल-टाइम स्क्रीनिंग, सर्वोत्तम विज़ुअलाइज़ेशन और इंटरैक्टिव सुविधा प्रदान करता है और अपने उपयोगकर्ताओं को निवेश करने के लिए मार्गदर्शन भी प्रदान करता है।

फिनविज (Finviz)

फिनविज बहुत सारे बेहतरीन स्टॉक स्क्रीनर्स, हीटमैप्स, विज़ुअलाइज़ेशन और इंटरेक्टिव चार्टिंग फैसिलिटी प्रदान करता हैं, लेकिन आप उन्हें मुफ्त में एक्सेस नहीं कर सकते।

इसकी बेहतरीन सर्विस और रियल टाइम डाटा एनालिसिस फैसिलिटी के आधार पर आप स्टॉक मार्केट का विश्लेषण करके एक सही इन्वेस्टमेंट डिसीजन ले सकते हैं और अपने पोर्टफोलियो की कमाई को बढ़ा सकते हैं।

हमने आपको विभिन्न बेस्ट फ्री शेयर मार्केट में काम आने वाले सॉफ्टवेयर व स्क्रीनर के बारे में जानकारी दी। ये सभी आपके एक बेस्ट निवेश निर्णय और स्टॉक्स का विश्लेषण करने में आपकी मदद कर सकते हैं।

आप इनके बारे में भी जानें –

हमने 7 बेस्ट फ्री चार्टिंग सॉफ्टवेयर व स्क्रीनर बताए है फिर भी, चुनाव निश्चित रूप से आपकी निवेश और वित्तीय आवश्यकताओं व लक्ष्यों पर निर्भर करता है।

आप जिस प्रकार के निवेशक हैं, वह भी सही स्टॉक चार्टिंग सॉफ्टवेयर चुनने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है इसीलिए बेस्ट स्टॉक विश्लेषण सॉफ्टवेयर व स्क्रीनर को चुनना बहुत ही महत्वपूर्ण है।

ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना

पहला कदम कई उपलब्ध विकल्पों जैसे स्टॉक, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड, डेरिवेटिव आदि में से निवेश के प्रकार को चुनना है. निर्णय लेने से पहले प्रत्येक विकल्प को समझना बेहतर रहेगा.

Written by Web Desk Team | Published :September 9, 2022 , 6:54 am IST

पिछले दो दशकों के दौरान शेयर बाजार में निवेश करने को लेकर लगातार वृद्धि देखी गई है. हालांकि, बाजार में अभी भी उतार-चढ़ाव चिंता का विषय बना हुआ है. यदि आप अब इसकी शुरुआत कर रहे हैं और शेयर बाजार में धन निवेश करने का इरादा रखते हैं तो ये उतार-चढ़ाव आपके पोर्टफोलियो को प्रभावित कर सकते हैं. बाजार में जब तक आप किसी रणनीति के साथ व्यापार नहीं करते हैं, तब तक आपको नुकसान का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए इस आर्टिकल में हम Beginners के लिए कुछ टिप्स लेकर आए हैं, जो शेयर बाजार में निवेश करने के लिए मददगार साबित हो सकते हैं –

स्टॉक मार्केट क्या है?
शेयर बाजार एक्सचेंजों, कंपनियों और निवेशकों के लिए इक्विटी, डेरिवेटिव, बॉन्ड, म्यूचुअल फंड आदि जैसी विभिन्न सिक्योरिटीज को सूचीबद्ध करने, खरीदने या बेचने का एक प्लेटफार्म है. आमतौर पर इसमें विभिन्न स्टॉक एक्सचेंज शामिल होते हैं, जो फॉर्मल (Formal) या ओवर-द-काउंटर (OTC) होते हैं. ये वित्तीय साधनों की सूची के साथ शेयर बाजार में लेनदेन की सुविधा प्रदान करते हैं.

भारत में शेयर बाजार के कार्यों को Securities and Exchange Board of India जैसे शासकीय संस्था द्वारा मैनेज व मॉनिटर किया जाता है. स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग कैसे सीखें, यह समझने के लिए इन कार्यों को समझना महत्वपूर्ण है.

शॉर्ट-टर्म और लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट के बीच अंतर – Beginners को कैसे चुनना चाहिए?
Beginners के लिए स्टॉक ट्रेडिंग के सबसे भ्रमित पहलुओं में से एक निवेश क्षितिज (investment horizon) को समझना है. बता दें, निवेश क्षितिज (investment horizon) वह समय होता है, जिसमें एक निवेशक पोर्टफोलियो होल्ड करने के लिए तैयार रहता है. आमतौर पर, दो निवेश क्षितिज (investment horizon) होते हैं: शॉर्ट-टर्म और लॉन्ग-टर्म. दोनों के बीच अंतर इस प्रकार है –

शॉर्ट-टर्म इन्वेस्टमेंट के फायदे
एक शॉर्ट-टर्म इन्वेस्टमेंट तब होता है जब कोई निवेशक सिक्योरिटीज को 3-4 महीने के भीतर बेचने के लिए खरीदता है. यह शेयर मार्किट में तुरंत लाभ कमाने की सुविधा प्रदान करता है. इस प्रक्रिया में निवेशकों को शेयर बाजार में लंबे समय तक अपना पैसा नहीं रखना पड़ता है और फिर भी सिक्योरिटीज की कीमतों में वृद्धि होने पर लाभ होता है.

लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट के फायदे
लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट को मूल्य निवेश (Value Investment) भी कहा जाता है. लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट में आप सिक्योरिटीज को कई वर्षों तक रखने के लिए खरीदते हैं. ज्यादा समय तक सिक्योरिटीज होल्ड करने से मार्किट रिस्क कम होने की संभावनाएं होती हैं क्योंकि ज्यादातर वे समय के साथ बढ़ते हैं. इस तरह के निवेश निवेशकों को सिक्योरिटीज की सबसे अच्छी वैल्यू प्रदान करते हैं क्योंकि विस्तारित अवधि अच्छे मुनाफे की संभावना को बढ़ाती है.

Beginners को किस प्रकार के निवेश का विकल्प चुनना चाहिए?:
निवेश लक्ष्य के आधार पर दोनों प्रकार के निवेश सही हैं. यदि आप तेजी से मुनाफा कमाना चाहते हैं और निवेशित धन को लंबे समय तक रखे बिना रिस्क लेने की क्षमता रखते हैं, तो आप शॉर्ट-टर्म इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं.

दूसरी ओर, यदि निवेशक ज्याद जोखिम नहीं लेना चाहते हैं और भविष्य के लिए व्यवस्थित रूप से निवेश करना चाहते हैं, तो आप लॉन्ग-टर्म पर विचार कर सकते हैं.

शेयर मार्किट में निवेश को लेकर Beginners के लिए step-by-step Guide

Beginners के लिए शेयर बाजार में निवेश करने की प्रक्रिया में सिक्योरिटीज को खरीदने और बेचने की प्रक्रिया को समझना भी शामिल है. यहां Beginners के लिए शेयर बाजार में निवेश करने के तरीके के बारे में step-by-step Guid दी गई है –

1.निवेश का एक प्रकार चुनें: पहला कदम कई उपलब्ध विकल्पों जैसे स्टॉक, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड, डेरिवेटिव आदि में से निवेश के प्रकार को चुनना है. निर्णय लेने से पहले प्रत्येक विकल्प को समझना बेहतर रहेगा.

2.डीमैट खाता खोलें: आपकी सिक्योरिटीज को इलेक्ट्रॉनिक रूप (Online) में रखने के लिए एक डीमैट खाता महत्वपूर्ण है. इसलिए निवेश करने से पहले डीमैट खाता खोलना अनिवार्य है. डीमैट खाता खोलने के लिए किसी एक को चुनने से पहले विभिन्न स्टॉक ब्रोकरों की तुलना और विश्लेषण करना एक अच्छा कदम साबित हो सकता है.

3.उपलब्ध स्टॉक विकल्पों पर रिसर्च और अध्ययन करें: नुकसान को कम करने और लाभ में बढ़ोतरी के लिए चुने हुए प्रकार के निवेश पर शोध करना जरूरी है. आप समाचार पत्रों, टीवी चैनलों या स्टॉक ब्रोकर द्वारा उपलब्ध जानकारी के माध्यम से चुनी गई सिक्योरिटी पर रिसर्च और अध्ययन कर सकते हैं.

4.अपने लक्ष्य के अनुरूप स्टॉक में निवेश करें: निवेश लक्ष्य निर्धारित करने के बाद आपको स्टॉक या अन्य निवेश उत्पादों में निवेश करना चाहिए. लक्ष्य यह सुनिश्चित करेगा कि आप एक आदर्श investment horizon, निवेश राशि, सुरक्षा और जोखिम उठाने की क्षमता का चयन करें.

5.अपने पोर्टफोलियो की नियमित रूप से निगरानी करें: एक बार जब आप किसी निवेश लक्ष्य के आधार पर सिक्योरिटी में निवेश कर लेते हैं, तो नियमित रूप से पोर्टफोलियो की निगरानी करना महत्वपूर्ण है. मॉनिटरिंग आपके निवेश के परफॉरमेंस को समझने, नुकसान को कम करने और उन शेयरों की पहचान करने में मदद करती है जो आगे के निवेश के लिए बेहतर परफॉर्म कर रहे हैं.

6.Trends और उतार-चढ़ाव के साथ बने रहें: शेयर बाजार उतार-चढाव एक आम बात है जो सूचीबद्ध सिक्योरिटीज की कीमत में वृद्धि या कमी करता है. शेयर बाजार में मौजूदा घटनाओं के बारे में अपडेट रहकर बाजार की दिशा (रुझान) को समझना जरूरी है. यह मौजूदा और भविष्य के निवेशों के संबंध में बेहतर निर्णय लेने की सोच को विकसित करता है.

Beginners शेयर बाजार में निवेश कैसे करें? Ask 5paisa

5paisa भारत के सबसे तेजी से बढ़ते डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर्स में से एक है और पहली सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध ऑनलाइन ब्रोकरेज कंपनी है. हम देश की शीर्ष 10 डिस्काउंट ब्रोकिंग फर्मों ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना में शामिल हैं. हम सुगम ट्रेडिंग अनुभव का आनंद लेने के लिए सर्वोत्तम डीमैट खाता और ट्रेडिंग सुविधाएं प्रदान करते हैं.
5paisa वित्तीय सेवाओं (financial services) के लिए वन-स्टॉप डेस्टिनेशन है, जिसमें स्टॉक और म्यूचुअल फंड निवेश, इक्विटी ट्रेडिंग, बीमा, रिसर्च प्रोडक्ट्स (Research Products), डिजिटल गोल्ड निवेश, कमोडिटी और मुद्रा व्यापार (Commodity and Currency Trading), रोबो एडवाइजरी, व्यक्तिगत ऋण (Personal Loan) आदि शामिल हैं. इसलिए आज ही 5paisa के साथ अपना डीमैट खाता खोलें.

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न –

प्रश्न 1.शेयर बाजार में निवेश करने के लिए किन डाक्यूमेंट्स की जरूरत होती है?
उत्तर: डीमैट खाता खोलने के लिए आवश्यक डाक्यूमेंट्स आपके बैंक विवरण के साथ आपका पैन और आधार कार्ड हैं.

Q.2:क्या आपको शेयर बाजार में निवेश करने के लिए एक नया खाता खोलने की आवश्यकता है?
उत्तर: शेयर बाजार में निवेश करने के लिए डीमैट खाता खोलना अनिवार्य है. यदि आपके पास पहले से ही एक डीमैट खाता है, तो आपको शेयर बाजार में निवेश करने के लिए नए खाते की आवश्यकता नहीं है.

Q.3:मुझे शॉर्ट-टर्म या लॉन्ग-टर्म किस में इन्वेस्ट करना चाहिए?

उत्तर: यदि आपकी जोखिम लेने की क्षमता अधिक है और आप शीघ्र लाभ अर्जित करना चाहते हैं, तो आप एक शॉर्ट-टर्म निवेश कर सकते हैं. यदि आपके पास कम जोखिम लेने की क्षमता है, और आप तुरंत लाभ का लालच नहीं रखते हैं, तो आप लॉन्ग-टर्म निवेश कर सकते हैं.

Intraday Trading For Beginners – Intraday Trading Kaise Kare In Hindi

दोस्तों अगर आप Intraday Trading करना चाहते है और शेयर मार्केट से पैसा कमाना चाहते हो तो यहाँ हम आपको इंट्रा डे ट्रेडिंग की बेजिक जानकारी देंगे, की इंट्राडे ट्रेडिंग केसे की जाती है, इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय किन बातो क्या ध्यान रखना चाहिए?

What is Intraday Trading?

Intraday Trading

(Intraday Trading) इंट्राडे ट्रेडिंग, जिसे डे ट्रेडिंग (Day trading) के रूप में भी जाना जाता है, एक ही दिन में स्टॉक और अन्य वित्तीय साधनों की खरीद और बिक्री है।अधिक सरल शब्दों में, यदि आप सुबह शेयर खरीदते हैं और शाम को बेचते हैं, तो इस ट्रेडिंग को इंट्राडे ट्रेडिंग के रूप में जाना जाता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग की कुछ लाभ भी होते है और कुछ नुकसान भी हो सकता है। इसके लिए आपको शेयर मार्केट की जानकारी होनी चाहिए।

इंट्राडे ट्रेडिंग में आप एक दिन के अन्दर पैसा कमा सकते हो, आपको लम्बे समय तक राह नहीं देखनी पड़ती। आप आज पैसा लगायेंगे और आज ही कमाएंगे अगर आपको सही knowage हो तो। मान लो आपने अभी शेयर ख़रीदा और उसकी कीमत 5 मिनिट में बड गई और आप ने वो शेयर बेच डाला तो आपको तुरंत profit हो जायेगा अगर शेयर की प्राइस कम हो गई तो आपको नुकसान भी हो सकता है।

अगर आप कोई नोकरी करते हो या कोई और काम करते हो और शयेर मार्केट से पैसा कमाना चाहते हो तो Intraday Trading एक सही विकल्प है। लेकिन उसके लिए आपको knowage होना चाहिए वरना आपका नुकसान भी हो सकता है।

Intraday Trading Ki Basic Jankari In Hindi – Intraday Trading Beginners Guide

यह व्यापार किसी भी बाजार में हो सकता है लेकिन शेयर और विदेशी मुद्रा बाजार में नियमित रूप से किया जाता है। तो, इसका मतलब है कि इंट्राडे ट्रेडिंग में, बाजार के दिन के बंद होने से पहले सभी पदों का निपटान किया जाता है। इस वजह से, ट्रेडों के परिणामस्वरूप शेयरों के स्वामित्व में कोई परिवर्तन नहीं होता है।

अगर सही तरीके से किया जाए, तो इंट्राडे ट्रेडिंग एक बहुत ही आर्थिक रूप से मजबूत करियर विकल्प हो सकता है, भले ही आप समय-समय पर किसी न किसी पैच को हिट कर सकते हैं। हालांकि, शुरुआती लोगों के लिए इंट्राडे ट्रेडिंग थोड़ी अधिक चुनौतीपूर्ण होती है, और आपको शुरू करने से पहले गहन शोध और एक अच्छी रणनीति की आवश्यकता होती है।

हालांकि बाजार की अस्थिरता के कारण यह व्यापार काफी जोखिम भरा है, अगर वह बाजार की स्थितियों को जानता है और हर गुजरते सेकंड के साथ सतर्क रहता है तो वह भारी मुनाफा कमा सकता है।

आज, डे ट्रेडिंग शुरू करना बहुत आसान है। यदि आप आरंभ करना चाहते हैं, तो इंट्राडे ट्रेडिंग की मूल बातें समझने के लिए पढ़ें:

How to Make Intraday Trading Successful – इंट्राडे ट्रेडिंग को कैसे सफल बनाये

Make Intraday Trading

Knowledge and experience – ज्ञान और अनुभव –

Professional day traders के पास market-place का अच्छा ज्ञान होता है। यदि आप बुनियादी बातों को समझे बिना दिन के व्यापार का प्रयास करते हैं, तो आप पैसे खोने का जोखिम उठाते हैं।

जिन शेयरों का आप व्यापार करना चाहते हैं, उनकी एक इच्छा सूची बनाएं और अपने आप को चयनित कंपनियों और सामान्य बाजारों के बारे में सूचित रखें। व्यावसायिक समाचार स्कैन करें और विश्वसनीय वित्तीय वेबसाइटों पर जाएं।

जबकि तकनीकी विश्लेषण कौशल और चार्ट पढ़ने की क्षमता आसान कौशल हैं, विश्लेषण के माध्यम से प्राप्त आंकड़ों को समझने के लिए आपको बाजार को समझने की जरूरत है। आप जिस उत्पाद का व्यापार कर रहे हैं उसकी प्रकृति को लगन से समझने के लिए समय निकालें।

Start Small – शरुआत में छोटे शेयर या थोड़े शयेर ख़रीदे

शुरू करने के लिए, एक सत्र के दौरान अधिकतम एक से दो शेयरों पर ध्यान दें। केवल कुछ स्टॉक के साथ ट्रैकिंग और स्पॉटिंग के अवसर आसान हैं। अगर आप नए है और पहेली बार इंट्राडे ट्रेडिंग में काम करना चाहते हो तो आपको शरुआत के दोरान छोटे शेयर या कम शेयर ख़रीदे उससे आपको profit कम मिलेंगा और अगर नुकसान हुआ तो वो भी कम हुयेगा।

Stop-Loss – स्टॉप लॉस

इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस जरूर लगाएं। मार्केट में उछाल और गिरावट तेजी से आते है, पैसा लगाने के पहले उसका लक्ष्य और स्टॉप लॉस जरूर तय कर लेना चाहिए. जिससे टारगेट पूरा होते देख स्टॉक को सही समय पर बेचा जा सके.

इंट्रा डे ट्रेडिंग को सफल बनाने के लिए आपको निचे दी गई बाते ध्यान मं रखनी चाहिए
  1. इंट्रा डे में बहुत ज्यादा स्टॉक की जगह अच्छे 2-3 शेयर्स का चुनाव करना चाहिए.
  2. शेयर चुनते वक्त बाजार का ट्रेंड देखना चाहिए. इसके बाद कंपनी की पोर्टफोलियो चेक करें.
  3. इसमे उछाल और गिरावट तेजी से आते है, पैसा लगाने के पहले उसका लक्ष्य और स्टॉप लॉस जरूर तय कर लेना चाहिए. जिससे टारगेट पूरा होते देख स्टॉक को सही समय पर बेचा जा सके.

Intraday Trading Kaise Kare In Hindi

How to Get Started – शुरुआत कैसे करें

शेयर बाजार में ट्रेडिंग शुरू करने के लिए आपको एक ट्रेडिंग अकाउंट और एक डीमैट अकाउंट बनाना होगा। खाता बनाने के बाद, आपको इंट्राडे ट्रेडिंग में मदद करने के लिए कुछ टूल मिल सकते हैं। ट्रेडिंग शुरू करने से पहले, आपको दैनिक चार्ट्स की जांच करने में कुछ समय बिताना चाहिए ताकि आप मूल्य आंदोलन पैटर्न से खुद को परिचित कर सकें। ऐसे कई उपकरण हैं जो तकनीकी विश्लेषण प्रदान करते हैं और ये उपयोगी भी साबित हो सकते हैं।

आप ऑनलाइन खुद से ट्रेडिंग कर सकते हैं या ब्रोकर को ऑर्डर देकर शेयर का कारोबार कर सकते हैं। आप Trading App जरिये अपने मोबाइल में अपना डीमैट अकाउंट खोल सकते है। मार्केट की कई सारे Trading App है जैसे की Moneycontrol App, Stock Edge app, Zerodha Kite, IIFL Markets, Upstox PRO और कई सारे है। यहाँ क्लिक करके आप Best Share Market App in India | टॉप स्टॉक मार्केटिंग ऐप के बारे में भी जन सकते हो।

शेयर बाजार में टाइम फ्रेम कैसे सेलेक्ट करें

टाइमफ्रेम क्या है


आज हम समझेंगे how to select chart time frame for trading के बारे में कि हम ट्रेडिंग के लिए चार्ट की टाइमफ्रेम कैसे सेलेक्ट करें दोस्तों यह सवाल बार-बार पूछा जाता है कि हम इंट्राडे के लिए या स्विंग ट्रेडिंग के लिए टाइम फ्रेम कैसे सेलेक्ट करें यह कौन सा टाइम फ्रेम बेस्ट रहेगा इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए तो आज हम टाइमफ्रेम के विषय में सारी जानकारी को समझेंगे और इस पोस्ट को देखने के बाद टाइम फ्रेम सिलेक्ट करने में आपको कोई परेशानी नहीं होगी

how to select chart time frame for trading

दोस्तों ट्रेडिंग के लिए टाइमफ्रेम सिलेक्ट ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना करने के लिए सबसे पहले आपको यह पता होना चाहिए कि आपका ट्रेडिंग स्टाइल क्या है ट्रेडिंग स्टाइल के विषय में हम पहले ही सब कुछ समझ चुके हैं हमारी वेबसाइट highreturn.in पर यह पोस्ट पहले से ही उपलब्ध है आप उसे पढ़ सकते हैं जब आपको एक बार यह पता चल जाए कि आपका ट्रेडिंग स्टाइल क्या है आप उसी प्रकार से चार्ट में अपना टाइम फ्रेम भी सिलेक्ट कर सकते हैं मतलब कि आपका ट्रेडिंग स्टाइल अगर छोटे समय का है तो आपका टाइम फ्रेम भी कम समय का होगा और अगर आपका ट्रेडिंग स्टाइल लंबे समय का है तो आपका टाइम फ्रेम भी लंबे समय का होगा

तो चलिए शेयर बाजार के पॉपुलर ट्रेडिंग स्टाइल के पॉपुलर ट्रेडिंग टाइम फ्रेम को मैं आपको बता देता हूं जैसा कि आप सभी जानते ही हैं कि भारतीय शेयर बाजार सुबह 9:15 से दोपहर 3:30 तक चलता है मतलब की टोटल 6 घंटे 15 मिनट इस मार्केट टाइम के हिसाब से आप ट्रेडिंग करते हैं

अगर आप स्कल्पिन ट्रेडिंग करते हैं तो आप 1 मिनट या 2 मिनट की टाइम फ्रेम का उपयोग करेंगे तो आपको बाजार से अच्छे रिजल्ट मिल सकते हैं

अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग करते हैं तो आप 5 मिनट या 15 मिनट की टाइम फ्रेम का उपयोग करेंगे तो बाजार से अच्छे रिजल्ट मिल सकते हैं

अगर आप स्विंग ट्रेडिंग करते हैं तो आप 1 घंटे या 2 घंटे की टाइम फ्रेम का उपयोग करेंगे तो आपको बाजार से अच्छे रिजल्ट मिल सकते हैं

अगर आप पोजीशनल ट्रेडिंग करते हैं तो आप डेली चार्ट टाइम फ्रेम का उपयोग करेंगे तो आपको बाजार से अच्छे रिजल्ट मिल सकते हैं तो दोस्तों यह थे शेयर बाजार के कुछ पॉपुलर ट्रेडिंग स्टाइल के पॉपुलर टाइमफ्रेम इनमें से जो भी आपका ट्रेडिंग स्टाइल हो उस हिसाब से आप अपना टाइम फ्रेम चुन सकते हैं

दोस्तों आप में से कुछ लोगों का यह ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना सवाल होगा कि अगर हम कैंडलेस्टिक पेटर्न का यूज करें तो क्या टाइम फ्रेम सिलेक्ट करना चाहिए अगर हम चार्ट पेटर्न का यूज करें तो क्या टाइम फ्रेम सिलेक्ट करना चाहिए और अगर हम टेक्निकल इंडिकेटर्स का यूज करें तो हम क्या टाइम फ्रेम यूज कर सकते हैं दोस्तों वैसे तो इस सवाल का कोई मतलब ही नहीं बनता है क्योंकि आप इन तीनों का उपयोग अपने ट्रेडिंग स्टाइल में ही करेंगे और आपका जो भी ट्रेडिंग है उसके हिसाब से हम टाइमफ्रेम को सिलेक्ट करना सीख ही चुके हैं

टाइमफ्रेम क्या है
टाइम फ्रेम कैसे सिलेक्ट करें

दोस्तों एक सही टाइम फ्रेम चुनना उतना ही आवश्यक है जितना कि सही ट्रेडिंग सेटअप को चुनना क्योंकि अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग करते हैं और इसके लिए आप डेली चार्ट की टाइमफ्रेम को देख रहे हैं तो आपको इससे कोई फायदा नहीं होने वाला है इसी प्रकार अगर आप पोजीशनल ट्रेडिंग करते हैं और आप 5 मिनट या 15 मिनट के टाइम फ्रेम को देख रहे हैं तो भी आपको कोई फायदा नहीं होने वाला है क्योंकि हमें जिस ट्रेडिंग स्टाइल से ट्रेड करना है उसी ट्रेडिंग स्टाइल के हिसाब से टाइमफ्रेम भी सिलेक्ट करना पड़ेगा दोस्तो टाइमफ्रेम सिलेक्ट करते समय आपको यह पता होना चाहिए कि टाइमफ्रेम आपको ट्रेड लेने से पहले सिलेक्ट करना है अपने ट्रेडिंग स्टाइल के अनुसार कई ट्रेडर्स ऐसे होते हैं जो ट्रेडिंग के लिए सही समय चुनना ट्रेड लेने के बाद टाइम फ्रेम सिलेक्ट करते हैं और अलग-अलग टाइमफ्रेम देखकर अपने ट्रेड को कैलकुलेट करते रहते हैं लेकिन आपको ऐसा नहीं करना है एक बार टाइम फ्रेम सिलेक्ट करने के बाद आपको उसी टाइम फ्रेम के हिसाब से ट्रेड लेना है उसी टाइम फ्रेम के हिसाब से आसको स्टॉपलॉस लगाना है और उसी टाइम फ्रेम के हिसाब से एग्जिट भी करना है

तो दोस्तों यह थी how to select chart time frame for trading ट्रेडिंग के विषय में संपूर्ण जानकारी उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी

रेटिंग: 4.68
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 650
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *