विदेशी मुद्रा शिक्षा

आवर्स ट्रेडिंग क्या है?

आवर्स ट्रेडिंग क्या है?
REN21, राष्ट्रीय सौर मिशन (NSM), राष्ट्रीय हाइड्रोजन ऊर्जा मिशन (NHEM), संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (COP26)

Basics of Stock Market For Beginners Lecture 1 By CA Rachana Phadke Ranade

मौसम अनुकूल, ऐसे लगाएं स्टोन फ्रूट

शिमला. यदि आप अपने बागीचें में गुठलीदार फलों के पौधें लगाने चाहते हैं तो यह समय उपयुक्त है. हिमाचल में चैरी, प्लम, खुमानी, आड़ू, बादाम गुठलीदार फलों सहित अखरोट, कीवी, नाशपती लगाने के लिए भी मौसम अनुकूल है.

बागवानी विशेषज्ञ एसपी भारद्वाज के मुताबिक यह मौसम स्टोन फ्रूट के लिए अच्छा है. प्रदेश के किसान बागवान इन दिनों स्टोन फ्रूट के पौधे लगा सकते हैं. ऐसे में बारिश और बर्फबारी से मिट्टी को नमी मिली है.

विशेषज्ञ ने राय दी है कि किसान बागवान पौधा लगाने के लिए तीन बाई तीन का गड्ढा खोदें, इसमें 100 ग्राम सुपर फास्पेट और चूल्हे की राख डालें. जिसके बाद गड्ढे से निकाली गई मिट्टी में उलटफेर करें. यानी ऊपर की मिट्टी नीचे और नीचे की मिट्टी ऊपर डालकर इसे बंद कर दें. ऐसे में जब ऊपर की मिट्टी को नीचे जाने से ताकत मिलेगी.

कम से कम दस दिन तक गड्ढे की इसी तरह बंद कर रख दें. यदि अधिक जल्दी नहीं हैं तो महीना भर इसे ऐसे आवर्स ट्रेडिंग क्या है? रखा जा सकता है.

सरकारी नीतियांँ और हस्तक्षेप, पर्यावरण प्रदूषण और गिरावट

हाल ही में REN21 (21वीं सदी के लिये अक्षय ऊर्जा नीति नेटवर्क) द्वारा नवीकरणीय वैश्विक स्थिति रिपोर्ट 2022 (GSR 2022) जारी की गई।

  • REN21 नवीकरणीय अभिकर्त्ताओं का एक वैश्विक समूह है।
  • इसमें वैज्ञानिक, भारत सरकार, गैर-सरकारी संगठन और उद्योग जगत के सदस्य शामिल हैं, जिन्होंने दुनिया भर के देशों में अक्षय ऊर्जा प्रतिष्ठानों, बाज़ारों, निवेश और नीतियों आवर्स ट्रेडिंग क्या है? पर डेटा एकत्र किया है।

नवीकरणीय वैश्विक स्थिति रिपोर्ट 2022:

  • नवीकरणीय ऊर्जा वैश्विक स्थिति रिपोर्ट 2022, अक्षय ऊर्जा क्षेत्र में हुई प्रगति का दस्तावेज़ीकरण करती है।
  • यह स्थानीय ऊर्जा उत्पादन और मूल्य शृंखलाओं के माध्यम से अधिक विविध तथा समावेशी ऊर्जा शासन प्राप्त करने की क्षमता सहित नवीकरणीय -आधारित अर्थव्यवस्था एवं समाज आवर्स ट्रेडिंग क्या है? द्वारा वहन किये गए अवसरों पर प्रकाश डालती है।
  • अपनी कुल ऊर्जा खपत में नवीकरणीय ऊर्जा की उच्च हिस्सेदारी वाले देश ऊर्जा स्वतंत्रता और सुरक्षा के उच्च स्तर सुनिश्चित करते हैं।
  • वैश्विक परिदृश्य:
    • रिपोर्ट एक स्पष्ट चेतावनी देती है कि वैश्विक स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण नहीं हो रहा है, जिससे यह संदेहास्पद है कि दुनिया इस दशक में महत्त्वपूर्ण जलवायु लक्ष्यों को प्राप्त कर पायेगी।
    • यद्यपि कई सरकारों ने वर्ष 2021 में शून्य ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के लिये प्रतिबद्धता व्यक्त की हैं, लेकिन वास्तविकता यह है कि, ऊर्जा संकट के जवाब में, अधिकांश देश जीवाश्म ईंधन के नए स्रोतों की तलाश कर रहे हैं तथा अधिक कोयला, तेल और प्राकृतिक गैस का उपयोग कर रहे हैं।
    • पहली बार, GSR 2022 में देशों द्वारा नवीकरणीय ऊर्जा शेयरों का एक विश्व मानचित्र प्रदान किया गया है तथा कुछ प्रमुख देशों में प्रगति पर प्रकाश डालता है।
    • नवंबर 2021 में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (COP26) की अगुवाई में, रिकॉर्ड 135 देशों ने 2050 तक शुद्ध शून्य ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन प्राप्त करने का संकल्प लिया।
      • हालांँकि इनमें से केवल 84 देशों के पास अक्षय ऊर्जा के लिये अर्थव्यवस्था-व्यापी लक्ष्य थे, और केवल 36 के पास 100% नवीकरणीय ऊर्जा के लक्ष्य थे।

      नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिये भारत की पहल:

        दुनिया के सबसे बड़े अक्षय ऊर्जा विस्तार कार्यक्रम के केंद्र में 100 GW की सौर महत्वाकांक्षा।
      • पवन ऊर्जा क्रांति: स्वच्छ ऊर्जा निर्माण और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिये भारत के मज़बूत पवन ऊर्जा क्षेत्र का लाभ उठाना। ईंधन आयात को कम करने, स्वच्छ ऊर्जा बढ़ाने, कचरे का प्रबंधन करने और रोजगार सृजित करने के लिये मूल्य शृंखला का निर्माण। : सतत् मानव विकास के लिये सूर्य की अनंत शक्ति का दोहन। दूरदराज के समुदायों को आर्थिक मुख्यधारा में एकीकृत करने के लिये पानी की शक्ति का उपयोग करना। बहुमुखी स्वच्छ ईंधन की व्यावसायिक व्यवहार्यता की खोज करना। भारत को वैश्विक स्वच्छ ऊर्जा मूल्य शृंखला में एकीकृत करना
      • डिस्कॉम की खराब वित्तीय स्थिति:
        • भारत में नवीकरणीय ऊर्जा को और बढ़ने के लिये सबसे चुनौती बिजली वितरण कंपनियों (डिस्कॉम) की खराब वित्तीय स्थिति है, जिनमें से अधिकांश राज्य सरकारों के स्वामित्व में हैं। लगभग सभी अक्षय ऊर्जा ऐसी डिस्कॉम द्वारा खरीदी जाती है, जिसके परिणामस्वरूप बहुत लंबा और अस्थिर भुगतान चक्र होता है।

        विगत वर्षों के प्रश्न

        प्रश्न : 'घरेलू सामग्री की आवश्यकता' शब्द को कभी-कभी समाचारों में देखा जाता है, यह किस संदर्भ में है? (2017)

        (a) हमारे देश में सौर ऊर्जा उत्पादन का विकास करना
        (b) हमारे देश में विदेशी टीवी चैनलों को लाइसेंस प्रदान करना
        (c) हमारे खाद्य उत्पादों को अन्य देशों में निर्यात करना
        (d) विदेशी शिक्षण संस्थानों को हमारे देश में अपने कैंपस को स्थापित करने की अनुमति देना

रेटिंग: 4.92
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 445
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *